सूचना

सूचना

बुधवार, 25 जून 2014

क्या आपका भोजन सही है : स्वयं परखें

डा0 अरविन्द दुबे

इसके लिये एक प्रश्न सारिणी नीचे दी जा रही है हर एक का उत्तर हां या न में दें। वे प्रश्न जिनके उत्तर हां में हों उन पर सही का निशान लगाएं।

क्या आप अपने भोजन में सामान्यतया हर रोज या हफ़्ते एस चार य उससे अधिक बार लेते हैं ?

  • फास्ट फूड
  • डिब्बा बंद सब्ज़ियाँ व सूप
  • काफी भुना-तला मांस या सब्ज़ियाँ
  • डेजर्ट, बिस्कुट, पाई, आइसक्रीम और नूडल्स
  • चोकर निकले आटे की रोटी और काफी छीलकर बिल्कुल सफेद किये हुए चावल।
  • पाउच में बिकने वाले कुरकुरे पदार्थ (पोटेटो वेफर्स, भुजिया, पापड़ आदि)
  • केचअप, जेम, सीरप्स, सॉस आदि
  • तेज चाय या गाढ़ी काफी के दिन में 2 से अधिक कप
  • सप्ताह में 5 दिन से अधिक अल्कोहल युक्त पेय (प्रति बार एक पैग से अधिक)
क्या आप ?

  • दिन में एक या सारे खाने गोल कर जाते हैं ?
  • दिन में ठीक से खाने की जगह उल्टा-सीधा खाकर काम चला लेते हैं ?
  • प्रतिदिन एक हजार से कम कैलोरी का भोजन लेते हैं ?
  • धूम्रपान करते हैं ?
  • अक्सर कुछ न कुछ दवाइयाँ खाते रहते हैं ?
  • नियमित व्यायाम नहीं करते और अधिकतर समय आराम से बैठे रहते हैं ?
  • बहुत सारी छोटी छोटी तकलीफों से पीड़ित हैं, यथा गैस, कमजोरी, थकान, सिरदर्द, नीद न आना, चक्कर आना व शरीर के अन्य दर्द? 
      
            अब देखें, अगर आपने पांच से कम प्रश्नों पर सही का निशान लगाया है तो आप स्वस्थ भोजन ले रहे हैं। अगर आपने करीब-करीब आधे प्रश्नों पर सही के निशान लगाए हैं तो आपको अपने भोजन, रहन-सहन और खान-पान में कुछ परिवर्तनों की आवश्यकता है। अगर आपने करीब-करीब सारे वाक्यों पर सही के निशान लगाए हैं तो फिक्र करिए। आपके भोजन व दिनचर्या में आमूल परिवर्तन की आवश्यकता है इसलिये तुरन्त अपने डाक्टर से मिलिए।

अपने सोचने का तरीका बदलिए

भोजन व खाने के बारे में हमारे समाज में कुछ ऐसे विश्वास प्रचलित हैं जो न केवल निरर्थक है अपितु कभी-कभी हानिकारक या क्लेश कारक भी हो जाते हैं इनमें से कुछ हैं-

  • आपने अपनी प्लेट में जितना भोजन निकाला है वह सारे का सारा आपको खाना ही है चाहे आपका पेट भर गया हो या खाने की इच्छा न हो क्योंकि खाना व्यर्थ करना एक अपराध है।
  • मैं बहुत तेज खाता हूं। इससे लोगों के साथ खाने पर, मेरे खाना खत्म करने के तक, लोगों को इंतजार नहीं करना पड़ता है यह अच्छी बात है।
  • अरे खाने से पेट ही तो भरना है, थोड़ा अच्छा-खराब है तो क्या? अगर मुझे वजनकम करना है तो मुझे खाने के स्वाद से मतलब नहीं रखना चाहिए।
  • वह एक रोटी और लेने का आग्रह कर रही थी कैसा मना किया जाता?
  • मेरा वजन कभी कम हो ही नहीं सकता लगता है मेरी बनावट ही ऐसी है।
  • अभी जो कुछ खाना है खा लूं फिर एक दो महीने जमकर डायटिंग कर ली जायेगी तो सब ठीक हो जाएगा।
अगर आप ऐसा सोचते हैं तो अपने सोचने का तरीका बदलिए। थोड़े समय की डायटिंग के स्थान पर भोजन में लम्बे समय तक चल सकने वाले परिवर्तन को अपनाएं।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें